कांग्रेस चुनाव समिति में शामिल होना शीला को मंजूर नहीं

sheila-1

नई दिल्ली । दिल्ली में जल्द
चुनाव किए हो सकते हैं। इसी बीच
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रदेश
चुनाव समिति, घोषणा पत्र समिति समेत
चुनाव संबंधी चार समितियों का गठन
किया। प्रदेश चुनाव समिति में पूर्व
मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को भी शामिल
किया है लेकिन शीला दीक्षित को यह
मंजूर नहीं है। शीला ने कहा कि उन्हें
समिति में शामिल की जाने की जानकारी
नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मुझ्ो नहीं पता
कि मेरे नाम की सिफारिश किसने की।
मुझ्ो इसके बारे में अगले दिन अखबार
से पता चला। मैं किसी भी कमिटी का
हिस्सा नहीं बनना चाहती। मैंने अपने
फैसले की जानकारी पहले ही दे दी
थी। ना ही मैं चुनाव लड़ना चाहती हूं
और ना ही कोई पद। मेरे फैसले का
सम्मान किया जाना चाहिए। ‘ यह
पहला मौका नहीं है जब शीला दीक्षित
ने सक्रिय राजनीति में आने से इनकार
किया हो। केरल के गर्वनर पद से
इस्तीफा देने के बाद शीला दीक्षित
कई बार सार्वजनिक तौर पर दिल्ली
की राजनीति में नहीं लौटने की बात
कह चुकी हैं। हालांकि कांग्रेस
नेताओं को इसमें कुछ भी गलत नजर
नहीं आ रहा। पार्टी एक नेता ने
बताया कि ऐसी समितियों में सदस्य
के चयन के लिए किसी की सिफारिश
की जरूरत नहीं होती। पार्टी के
वरिष्ठ नेता इसपर फैसला करते हैं।
इस समिति में कई पूर्व प्रदेश अध्यक्षों
को शामिल किया गया है। दिल्ली
प्रदेश कांग्रेस चुनाव समिति में कुल
24 सदस्यों को रखा गया है, जिसमें
बतौर अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली
सबसे ऊपर हैं। घोषणा पत्र समिति में
भी 24 सदस्यों को जगह दी गई है
और इसके अध्यक्ष एके वालिया हैं।
हारून युसूफ को चुनाव प्रचार समिति
का अध्यक्ष बनाया गया है, जबकि
अनुशासन समिति के लिए अभिजीत
सिंह गुलाटी को अध्यक्ष घोषित किया
गया है। प्रचार समिति में भी 24
सदस्य हैं, जबकि अनुशासन समिति
में 6 लोगों को जगह दी गई है।
प्रदेश चुनाव समिति के सदस्यः
अरविंदर सिंह लवली (अध्यक्ष),
हारून युसूफ, जर्नादन द्विवेदी, अजय
माकन, आरके धवन, करण सिंह, परवेज
हाशमी, शीला दीक्षित, सुभाष चोपड़ा,
जेपी अग्रवाल, प्रेम सिंह, मनीष चतार्थ,
नसीब सिंह, मुकेश शर्मा, रमेश कुमार,
महाबल मिश्रा, जय किशन, हसन
अहमद, देवेन्द्र यादव, सुरेंद्र कुमार,
पुंवर करण सिंह, फरहाद सुरी, महमूद
जिया, दिल्ली प्रंटल ऑर्गेनाइजेशन क