महिला दिवस की शुभकामनायें केवल एक दिन के लिए नहीं सालो साल के लिए हो ….

0 commentsViews:

rp_1443162867203-180x3001-180x300.jpg

एक दिन का नहीं उत्सव
हर दिन का हो उत्साह हो …..

1
माला की सूता
संजोये दो दो ड्योढीं
सेतु है सुता ।
2
घर गमले
स्त्री-वट हो बोंजाई
रिश्ते सम्भले।
3
बिहँसे हिय
छूती शिखर सुता
नैन में भय।
4
चक्की जोहती
खनकती चूड़ियाँ
दाल दरती ।
5
डूबाती ठाँव
देहली जाती लाँघ
मिटाती छाँव।
6
जीव सींचती
स्थितप्रज्ञ स्त्री धारा
अंक भींचती ।

लड़ाई पुरुष वर्ग से नहीं ….. ये लड़ाई अपने आप से हो ………

रागी वैरागी भिक्षुणी तीनों होती है न स्त्री
जीते जी …. जीते
पर्स … हर्ष …. संघर्ष
…… नारी के हिस्से।

आस बुनती
संस्कार सहेजती
सर्वानंदी स्त्री।
सर्वानन्द = जिसको सभी विषयों में आनंद हो

स्त्री की त्रासदी
स्नेह की आलिंजर
प्रीत की प्यासी।
आलिंजर = मिटटी का चौड़े मुंह का बर्तन = बड़ा घड़ा

बन के पुल
सुकुमारी दुल्हन
जोड़े दो कुल।

तोड़ के रुढी
नभ को छूने चली
छोड़ के ड्योढ़ी।

1
स्त्री विरुद्ध स्त्री
रूढ़ि सन्नद्ध स्थिति
जटिल मसला ।
2
स्त्री विरुद्ध स्त्री
पुरुष तरफदारी
खोटा समझ ।
3
स्त्री विरुद्ध स्त्री
दमन अनिवार्य
सतही सोच ।
4
स्त्री विरुद्ध स्त्री
सनातनी व्यवस्था
वैर निभाना ।
5
स्त्री विरुद्ध स्त्री
सत्ता परिवर्तन
टूटा सपना ।
6
स्त्री विरुद्ध स्त्री
जुल्मो-सितम ढाती
दूषित मन।


Facebook Comments