नारी तुम महान करो खुद की पहचान – सीमा निगम

सारा सच हमारीवाणी *नारी तुम महान,,,,,करो खुद की पहचान* *सारा सच* यही है नारी सशक्तिकरण के इस युग में नारी द्वारा अपने बुने हुए स्वप्न संसार की, अपने सपनों को हकीकत में बदलने की... Read more »

सोशल मीडिया – डॉ.रूपाली दिलीप चौधरी

सोशल मीडिया डॉ.रूपाली दिलीप चौधरी (महाराष्ट्र) आज के दौर में मीडिया विमर्श की चर्चा गहनता से हो रही है | जिसमें फिल्म, अखबार ,वेब ,संगणक ,दूरदर्शन, पत्रिका यह सब मीडिया में छाया हुआ दिखाई... Read more »

सांसद विधायक – अनंतराम चौबे

राष्ट्रीय हिन्दी साहित्य मंच हमारी वाणी साप्ताहिक प्रतियोगिता हेतु विषय… सांसद विधायक कविता… सांसद/विधायक सांसद या विधायक होI जनता ही इनको चुनती है । चुनाव जीतने के बाद में फिर मनमानी इनकी होती है । राजनैतिक पार्टियां हमेशा अपना उल्लू… Read more »

वृक्ष है संजीवनी – अश्मजा प्रियदर्शिनी

वृक्ष है संजीवनी #sarasach #hamarivani वृक्ष है संजीवनी हमारी वसुंधरा की हैं शान। धरती को स्वर्ग बनाते, जैसे ईश्वर का वरदान। प्राणवायु देते भरते हर जीव-जन्तु में जान। वृक्षों की शाखाओं पर बसते खग के प्राण। चमन में... Read more »

हाँ,मै एक डॉक्टर मौकापरस्त हूँ – डॉक्टर सुलेखा यादव

हे समाज,ना बनाओ मुझे भगवान, मै भी हूँ एक साधारन सा इन्सान, मै भी अपनी नीन्द गँवा करता इलाज हूँ, हां,मै एक मामुली सा डॉक्टर मौकापरस्त हूँ। जब सभी ज़िन्दगी के रागों मे पड़े मस्त थे, मै... Read more »

कोरोना – प्रा.गायकवाड विलास.

**प्रतियोगिता के लिए रचना* ********** ** *** ***** **विषय : कोरोना** ******:******* **कुछ मानवता के दीप* **** ******* ** *** ( मुक्तछंद काव्य रचना ) वक्त के आगे छोड़कर अहंकार , कुछ मानवता के दीप तुम जलाओ। हम सबकी है… Read more »

बंगाल चुनाव/राजनैतिक पार्टियां – अनन्तराम चौबे अनन्त

राष्ट्रीय हिन्दी साहित्य मंच हमारी वाणी साप्ताहिक प्रतियोगिता हेतु विषय.. बंगाल चुनाव/राजनैतिक पार्टियां नाम.. अनन्तराम चौबे अनन्त जबलपुर म प्र कविता… बंगाल चुनाव/ राजनैतिक पार्टियां राजनैतिक पार्टियां हमेशा अपना उल्लू सीधा करती हैं । सत्ता की कुर्सी पाने चुनाव में… Read more »

साहित्य संगीत कला विहीन – डॉ रुपाली दिलीप चौधरी

कला डॉ रुपाली दिलीप चौधरी डॉअन्नासाहेब जी डी विंडाले महिला महाविद्यालय जलगांव साहित्य संगीत कला विहीन साक्षात पशु पुच्छ विषाणु ही न कला शब्द अत्यंत व्यापक है सदियों से कला जगत का अपना गौरवशाली इतिहास... Read more »

चुनाव – कवि सुरेन्द्र कुमार जोशी

*अंतरराष्ट्रीय हिंदी साहित्य प्रतियोगिता मंच “हमारी वाणी”* *प्रतियोगिता का विषय- पांच/ पंचायत /महा पंचायत/ जिला पंचायत/ चुनाव /उपचुनाव /नगर निगम* **चुनाव* निर्वाचन आयोग चुनाव आयोग एक ही काम नाम आधार सदा करवाते चुनाव चुनकर सेवक बने सरकार चुनाव करें... Read more »

जय जवान जय किसान – डॉ रुपाली दिलीप चौधर

डॉ.अन्नासाहेब जी.डी.बेंडाले महिला महाविद्यालय जलगांव ‘ धरती से तेरा अनोखा रिश्ता, तुमने दिया स्थान पिता तथा माता! बना दिया ऐसा अलग ही नाता, धरती को समर्पित, सारा सच जय जवान जय किसान ही कहलाता!!!’ जय जवान जय... Read more »